KNOW HOW AM I...

WHAT TYPE OF A PERSON YOU ARE..INTROVERT OR EXTROVERT.
WHAT KIND ..KNOWING ..DOING...FEELING ..

BECOMING ORIENTED OR BEING ORIENTED..

ON WAY OF JESUS OR BUDDHA OR MOHAMMED OR KRISHNA OR NANAK OR OF OSHO...

IS YOUR LIFE JOURNEY..BASED ON EARS..OR TONGUE..NOSE..EYES OR SEX ORGAN..

AT WHICH CENTRE YOU LIVE..SEX CENTRE ..OR THOUGHT CENTRE OR HEART CENTRE.
WHICH BODY IS MORE ACTIVE AND AWARE..PHYSICAL..ETHERIC...SUBTLE ..CAUSAL..SPIRITUAL..OR HIGHERS..

YOU ARE MALE BY PHYSICAL BODY BUT BY PSHYCHIC FEMALE OR REVERSE MAY BE THE CASE..
YOU ARE ON PATH OF IMAGINATION OR ON MEDITATION..

WHY WE ARE HERE IN HUMAN BODY AT THIS PLANET EARTH..TO FIGHT OR TO CIRCULATE LOVE AND LIGHT

IN HUMAN BODY ! AS A H HUMAN BEING

WHY WE EXIST
AND
UP TO WHAT ATTAINMENT
OUR EXISTENCE REMAINS..
AND
WHAT

WE ARE SEARCHING IN THIS LIFE

OUT SIDE OR INSIDE OF US

LOST GOD..LOST LOVE OR LOST........ .

REAL AND ETERNAL

CENTER

THE SECRET OF THE SECRETS IS ..

..THE GOD IS... THE.. CENTER

SAY IT ALLNESS .

SAY IT NOTHINGNESS OR LOVELINESS OR

VASTNESS OR GODLINESS....

OR BEYOND ENLIGHENTMENT

MERE ORDINARINESS

WITH EXTRA ORDINARY AWARENESS

SEE N SAY WWW.OSHOREVOLUTION.BLOGSPOT.COM

OSHO REVOLUTION FIRST HAPPEN IN THE BEING OF HUMAN THEN SPREADS IN ALL DIRECTION AND DIMENSIONS.

-HARIOM AGGRBHARTI 0091-9313539612



OSHO EXIHIBITION AT AGGRBHARTI OSHO REVOLUTION CENTRE IN NEW DELHI INDIA

OSHO EXIHIBITION AT AGGRBHARTI OSHO REVOLUTION CENTRE IN NEW DELHI INDIA
INVITATION AND WELCOME

WHO KILLED OSHO? WHY? OSHO EXHIBITION AT AGGRBHARTI OSHO REVOLUTION CENTER TO ASK OR ANSWER

WHO KILLED OSHO ?

WHY?
!
FOR WHAT?
!
FOR WHOM?
WHAT HAVE YOU DONE
OR DOING?
SAY IN
!
OSHO EXHIBITION
AT
AGGRBHARTI
OSHO REVOLUTION CENTRE

G-1 / 472 DAL MILL ROAD UTTAM NAGAR NEW DELHI 110059
NEAR METRO PILLAR 683
PH.0091-9313539612 ...
YOU ALONG WITH ALL OF YOU ARE LOVINGLY INVITED..
TO

LOOK AND LOVE YOUR ORIGINAL FACE FULL OF TRUTH AND GRACE
FIRST IN THE EYES OF OSHO
ALSO AT WWW.OSHOREVOLUTION.BLOGSPOT.COM

TO SEE AND BE
OSHO REVOLUTION
IN ACTION..
...

REGARDS...

AGGRBHARTI
for any truth support or contribution to osho revolution
PH.0091-9313539612 ...EMAIL..HARIOMAGGRBHARTI@GMAIL.COM..


ASK OR ANSWER

HARIOMAGGRBHARTI@GMAIL.COM..
.

Sunday 28 December 2008

LOVING FRIENDS.. YOU KNOW .. LIFE IS A THRILL OF BLISS.. TO BE HIGH IN WHOLE DIVE DEEP IN OSHO..



WHERE THERE IS A LIFE
THERE IS A CONSCIOUSNESS
WHERE THERE IS A CONSCIOUSNESS
THERE IS A SEED OF GOD
LOVE AND BE LOVE
OSHO



स्त्री के दिव्य गुण
कीर्ति, श्री, वाक्, स्मृति,
मेधा, क्षमा, धृति
पुरूष के प्रभु गुण
सम्राट, चुनौती, जोखिम, प्रज्ञाज्ञान,
सवेंदनशील प्रेम


साथियों..
जीवन एक पुलक है आनंद की .गहरे चलो
जीवन एक जोखिम है । अवसर भी
जीवन एक दावं है लगाते चलो
आप किसकी सुनते हैं
मन की या मौन की
अंहकार की या अस्तित्व की
समाज की या सत्य की
वासना की या विराट की
सुनने की कला ही ध्यान है
यही कला हर ह्रदय की पहचान है
सुनो समझो
जागो और जानो
ओशो


जीवन पथ पर
ओशो पथ पर जुआरी का दिल चाहिए
होशियारी और समझदारी से न चल सकोगे
इस रास्ते पर
!
क्योंकि होशियार समझदार
रत्ती रत्ती का हिसाब तो रखता है
रत्ती रत्ती तो बचा लेता है
लेकिन जीवन का सारा खजाना खो देता है
ध्यान करो ।

CHANGE YOUR LIFE WITH LOVE OF OSHO...

LIFT YOUR LIFE IN MEDITATION

अब

आपकी दुनिया भी

चहक सकती है

महक सकती है



BEAUTY OF GODLINESS IN BUDDHAHOOD


नाचता मौन


हँसता ध्यान


THE DEEPEST SMILE... YOU HAVE EVER SEEN


ये है

आपकी दुनिया को ओशो का अद्भुत दान

BUDDHAFIELD CREATED BY LOVE OF OSHO

YOUNGNESS DANCE IN OSHO

UNBOUNDED BLISSFULNESS
!
!
आनंदवाद

या

आतंकवाद

HAVE A LOOK... IN LOOKING ...
!
!
अब

निर्णय आपका

!

AWARENESS DANCING IN DIVINE...

कब

!


अब

JUST INVITING WHOLE IN SURROUNDING...

देखो सुनो समझो


जानो और जागो

WITNESSING TRANSPARENT BEAUTY OF DIVINITY

!
!
ओशो

TERRORISTS NEEDS TOTAL TREATMENT INCLUDES MIND...

OSHO A JOY IN MOMENT
!

TERRORISTS ARE MENTALLY ILL

THEY ARE NOT AWARE

THEIR THIRD MODE OF MIND

IS DAMAGED


THEY NEEDS TOTAL TREATMENT

INCLUDES
NO ATTENTION

NO GLORIFICATION

BACK PRESENTATION



MEDICATION

CHEMICAL

MENTAL

SPIRITUAL

MILITARY OPERATION

TO WIPE OUT

ROADS OF THEIR EGOS

TO

TERRORISTS GROUPS


MEDITATIONS

TO TRANSCENDENCE

OF THEIR

MIND'S AND HEART'S

HALLUCINATIONS

ANTIDOTE TO TERRORISM.WORLD'S FIRST WEBSITE..CATALYST TO CELEBRATION. OSHO REVOLUTION..


YOU ARE WATCHING OSHO REVOLUTION

WORLD'S FIRST WEBSITE


WHICH IS ANTIDOTE TO TERRORISM..

AND

CATALYST TO CELEBRATION


WE BRINGS BEFORE YOU THE LOST..

HIDDEN..FORGOTTEN


HISTORY AND MYSTERY OF HUMAN EVOLUTION
WHICH INCLUDES

CLUES-HINTS-SECRETS AND WAYS

TO REVEAL AND REALIZE


WHAT YOU ARE SEARCHING FOR LIVES

BUT ALWAYS MISS...

WHOLE HUMANITY IS THIRSTY FOR THE MESSAGE OF

OSHO REVOLUTION


THE ONLY SOLUTION

AVAILABLE BEFORE HUMAN BEINGS

IN THIS DANGEROUS PHASE OF ELIMINATION OF LIFE

FROM THE PLANET EARTH


YOU ALSO BE THE MESSENGER AND MESSAGE OF HUMAN SOLUTION !

THIS WEBSITE OSHO REVOLUTION IS ALSO HELPFUL TO LOVERS AND INTELLIGENTSIA OF THE WORLD

CREATIVE AND DESTRUCTIVE BOTH.

FOR ANY TRUTH OR SUPPORT

CALL OR WRITE

HARWANTI PUTRA

HARIOM AGGRBHARTI


TO

PH.09313539612 , PH.09315475945

INDIA


medium vehicle

OSHO REVOLUTION


WHAT IN YOUR HEART

THE SEED OF


GOD


WAITING...


RICHNESS OF HEART

IN DREAMS OF LOVE


OR


LOVE TO GODLINESS...


!

मनुष्य होने का मतलब समझते हैं आप

मनुष्य होने की गरिमा गौरव


दायित्व और दिशा जानते हैं आप



पत्थर और मनुष्य में फर्क क्या हैं



कह सकते हैं आप

आप में और ओशो में


क्या हँ फर्क


कहें

अगर


कह सकें आप


आगाजे आवाज

अग्रभारती

आतंकवाद मांगता है समाधान ध्यान...

OSHO SPEAKS TO WORLD TO BE GLOBAL
!

आतंकवाद मांगता है

अब

मौत


अंत

समाधान


ध्यान


मनुष्य मात्र की मोलिक समस्याओं का


एकमात्र अन्तिम समाधान

ध्यान
! !
ध्यान
!
!
और सिर्फ़ ध्यान
!
!
मनुष्य की वस्तुत अन्तिम खोज क्या है

अपनी ही खोज

अपने से ही पहचान
!
मनुष्य अकेला है सृष्टि में
!

जिसे स्व बोध है

जिसे इस बात का होश हैं की मैं हूँ

पशु हैं पक्षी हैं वृक्ष हैं

हैं तो जरुर लेकिन अपने होने का

उन्हें कोई बोध नही

मनुष्य अकेला है

जिसे इस बात का बोध है

की मैं हूँ

अनिवार्य रूप से दूसरा प्रश्न उठेगा

की मैं हूँ कौन

हूँ सच

पर कौन हूँ

और जिसके जीवन में

यह दूसरा प्रश्न नही उठता

वह पशु तो नही हैं

मनुष्य भी नही है

कहीं बीच में अटक गया है

घर का न घाट का

उसके जीवन में

पशु की शान्ति भी नही होगी

और उसके जीवन में

परमात्मा का आनंद भी नही होगा

वैसा आदमी त्रिशंकु की तरह

अटका सदा अशांत होगा

मैं कौन हूँ

यह मनुष्य का एकमात्र प्रश्न है

यही उसकी एकमात्र खोज है

इसी खोज से

फिर आनंद के झरने बहते है

यह खोज जिस दिन पूरी हो जाती है

उस दिन तुम्हे वो सब मिल जाता जाता है

जो पशुओं को है

जो पक्षियों को है - चाँद तारों को है

और साथ में कुछ और मिल जाता है,

जो उनके पास नही है

साथ में प्रकाश मिल जाता है

साथ में होश मिल जाता है

पशु पोधे के जीवन में

एक आनंद- मग्नता है

मगर मूर्छित

फ़िर बुद्धों के जीवन में,

सिद्धों के जीवन में

एक आनंद- मग्नता है

सचेत जागरूक

एक मस्ती यहाँ भी है

पर उस मस्ती में

बोध का दिया जलता है

भरोगे तुम किससे क्या खाली हो ख़ुद से ...स्वयं से सर्व से ..

OSHO - THE SOURCE OF MEDITATION

गरीबी खालीपन और पहचान

ये हैं आदमी के

तीन सवाल पैदा होते तीन ख्याल

क्या


गरीबी मिटती है इनसे

सम्भोग से संपत्ति से और शक्ति से

भरोगे तुम किससे

क्या खाली हो ख़ुद से


...स्वयं से सर्व से


उतरो अपने भीतर

तुम्हारे भीतर होती है

तुम्हारी अपनी सच्ची आन बान शान और पहचान

जिसका सदा सदा से मार्ग रहा है ध्यान

ध्यान

सिर्फ़ ध्यान